EBM News Hindi

कमलनाथ की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में शामिल पत्रकार पर FIR, बेटी के कोरोना संदिग्‍ध होने के बावजूद नहीं हुआ था क्‍वारंटाइन

0

भोपाल। कांग्रेस नेता और मध्‍यप्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथ की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में शामिल उस पत्रकार पर एफआइआर दर्ज की गई है, जिसकी बेटी लंदन से लौटी थी और उसको क्‍वारंटाइन में रहने का निर्देश दिया गया था। कमलनाथ की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में शामिल इस पत्रकार को बाद में कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया। इसी के चलते प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के शामिल सभी पत्रकारों को क्‍वारंटाइन में रहने के निर्देश दिए गए हैं।

भोपाल पुलिस प्रवक्‍ता ने बताया कि पत्रकार के खिलाफ शुक्रवार रात को श्यामला हिल्स पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 188 (लोक सेवक द्वारा दिए गए आदेश की अवज्ञा), 269 (लापरवाही से खतरनाक बीमारी फैलाना ) और 270 (निंदनीय कृत्य) के तहत मामला दर्ज किया गया गया है। बताया गया है कि पत्रकार पर कोरोनो वायरस महामारी से संबंधित सरकार के प्रतिबंधात्मक आदेशों का उल्लंघन करने के लिए मामला दर्ज किया गया है। पत्रकार की बेटी, पोस्ट-ग्रेजुएट कानून की छात्रा है और 18 मार्च को लंदन से भोपाल लौट आई थी। लड़की को होम-क्‍वारंटाइन रहने का आदेश दिया गया था। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बेटी के विदेश से लौटने के दो दिन बाद, पत्रकार ने 20 मार्च को मुख्‍यमंत्री के रूप में कमलनाथ की अंतिम प्रेस कॉन्फ्रेंस में भाग लिया।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के कुछ दिनों बाद, पत्रकार और उनकी बेटी कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए। ऐसे में प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में शामिल हुए सभी लोगों पर कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है। समाज का जिम्‍मेदार नागरिक होने के नाते पत्रकार का यह फर्ज बनता थाा कि बेटी के क्‍वारंटाइन होने पर उसे भी घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए था। लेकिन नियमों को ताक पर रखते हुए पत्रकार मुख्‍यमंत्री की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में पहुंच गए और अब कई लोगों की जान खतरे में डाल दी है।

बता दें कि अब तक मध्‍यप्रदेश में 33 पॉजिटिव कोरोना वायरस केस पाए गए हैं। इनमें से 16 इंदौर के निवासी हैं, जबलपुर के आठ, भोपाल और उज्जैन के तीन, शिवपुरी के दो और ग्वालियर का एक मामला है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इनमें इंदौर और उज्जैन के एक-एक, कुल दो कोविड​​-19 मरीजों की मौत हो गई है।