EBM News Hindi

कोरोनावायरस महामारी के बावजूद चीन में इस इलेक्ट्रिक कार का प्रोडक्शन हुआ शुरू

नई दिल्ली। रोजाना हम आपको बताते आ रहे हैं कि कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए देश और दुनिया की कार निर्माता कंपनियां अपने प्लांट बंद कर रही हैं। लेकिन, जहां इस वायरस का जन्म हुआ है यानी चीन, वहां एक इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता Polestar ने चीन के लुकीयाओ में अपनी पहली इलेक्ट्रिक कार का प्रोडक्शन शुरू कर दिया है। परफॉर्मेंस फास्टबैक को सबसे पहले यूरोप और फिर चीन के बाद नॉर्थ अमेरिका में डिलीवर किया जाएगा। बता दें, यह Volvo कार ग्रुप द्वारा उत्पादित किया जाने वाला पहला इलेक्ट्रिक परफॉर्मेंस है। Geely ऑटो द्वारा स्वामित्व और Volvo कार्स द्वारा संचालित Luqiao फैक्ट्री इसका एक उदाहरण है कि कैसे Polestar अपनी मूल कंपनियों की विशेषज्ञता का लाभ उठाता है।

Polestar 2 को सबसे पहले फरवरी 2019 में पेश किया गया था और यह वैश्विक बाजारों उपलब्ध कराया गया था। Polestar 2 एक प्रीमियम 5-डोर फास्टबैक कार है जो कि टो इलेक्ट्रिक मोटर्स के साथ आती है और यह प्रत्येक एक्सल में मौजूद हैं। यह 78 kWh बैटरी के साथ आती है जो कि WLTP टेस्ट साइकिल द्वारा सिंगल चार्ज पर 500 km का रेंज देती है। यह इलेक्ट्रिक मोटर 402 bhp की पावर और 660 Nm का टॉर्क जनरेट करती है और इसे 0 से 100 kmph की रफ्तार पकड़ने में 5 सेकंड का वक्त लगता है। इसमें ओहलिन्स सस्पेंशन्स, ब्रेम्बो ब्रेक्स और 20-इंच के फॉर्ग्ड व्हील्स दिए गए हैं। इसके साथ ही इसमें Polestar की सिग्नेचर गोल्डन सीट बेल्ट्स, ब्रेक कैपिलर्स और वॉल्व कैप्स दिए गए हैं।

Polestar के सीईओ Ingenlath ने कहा, “दुनिया को कोरोनावायरस महामारी के कारण भारी उथल-पुथल का सामना करना पड़ रहा है। हम अब इन चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में अपने लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा पर एक मजबूत फोकस के साथ प्रोडक्शन शुरू करते हैं। यह एक महान उपलब्धि है और फैक्ट्री और सप्लाई चेन को सुरक्षित करने वाली टीम के कर्मचारियों के भारी प्रयासों का परिणाम है।”

Polestar 2 को Volvo के कॉम्पैक्ट मॉड्युलर आर्किटेक्चर (CMA) प्लेटफॉर्म पर बनाया जाएगा और इसके फ्लोर में 27 मॉड्यूल बैटरी पैक इंस्टॉल की जाएंगी। इसका प्लेटफॉर्म कुछ इस तरह बनाया गया है, जिसके चलते इसमें नोएज, वाइब्रेशन और हार्शनेस (NVH) लेवल्स में काफी सुधार देखा जा सके।