EBM News Hindi

PM Modi Mann Ki Baat: PM मोदी बोले- कोरोना के खिलाफ ये युद्ध अभूतपूर्व भी और चुनौतीपूर्ण भी

0

नई दिल्ली।Mann Ki Baat, कोरोना वायरस महामारी को लेकर देश में जारी लॉकडाउन के बीच  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात को संबोधित किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ के 63वें संस्करण के तहत लोगों को संबोधित किया।पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत में लोगों से असुविधा के लिए क्षमा मांगी, लेकिन लॉकडाउन को जरूरी बताया। आइए जानते हैं पीएम मोदी के मन की बात के प्रमुख अंश-

कठोर फैसलों के लिए PM ने माफी मांगी

पीएम मोदी ने कहा कि मैं इन कठोर फैसलों के लिए माफी चाहता हूं, जिन्होंने आपके जीवन में कठिनाइयों को जन्म दिया है, खासकर गरीब लोगों को इसने ज्यादा परेशान किया है। मुझे पता है कि आप में से कुछ मुझसे भी नाराज होंगे। लेकिन इस लड़ाई को जीतने के लिए इन कठोर उपायों की आवश्यकता थी।

पीएम मोदी ने साथ ही कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीवन और मृत्यु के बीच जंग जैसी है।पीएम मोदी ने आगे कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई कठिन है और इससे मुकाबले के लिए ऐसे कठोर फैसलों की आवश्यकता थी। भारत के लोगों को सुरक्षित रखना ज़रूरी है।

सीमाओं के परे हैं कोरोना का खौफ

पीएम मोदी ने मन की बात के जरिए लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना वायरस ज्ञान, विज्ञान, अमीर-गरीब, मजबूत-कमजोर सबको एक जैसी चुनौती दे रहा है। यह किसी भी देश की सीमाओं तक सीमित नहीं है, न ही यह क्षेत्र या मौसम में कोई भेद करता है।

कोरोना योद्धाओं को पीएम का सलाम

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि  कई योद्धा ऐसे हैं जो अपने घरों के अंगर नहीं बल्कि अपने घरों के बाहर Coronavirus लड़ रहे हैं। ये हमारी अग्रिम पंक्ति के सैनिक-विशेषकर हमारे भाई-बहन नर्स, डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ के रूप में ड्यूटी पर हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि मैं समझता हूं कि कोई भी जान-बूझकर नियमों को तोड़ना नहीं चाहता है, लेकिन कुछ लोग हैं जो ऐसा कर रहे हैं। उनके लिए, मैं कहूंगा कि यदि वे इसके उलटफेर इसका पालन नहीं करते हैं, तो खुद को कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं।

PM मोदी ने की कई योद्धाओं से बात

आज मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कई योद्धाओं से टेलीफोन पर बातचीत की। श्री रामगम्पा तेजा जो एक IT प्रोफेशनल हैं जिन्होंने कोरोना को सफलतापूर्वक हराया है, उन्होंने अपने अनुभव प्रधानमंत्री मोदी के साथ साझा करते हुए कहा कि यह जानने पर कि मैं COVID-19 पॉजिटिव था, मैं तुरंत क्वारंटाइन में चला गया। ठीक होने के बाद भी, मैं कुछ दिनों के लिए अकेला रहना पसंद करता हूं। मैं अब नियमित रूप से अपने हाथ धोता हूं।