EBM News Hindi

कोई आरक्षण छीनेगा तो उसे थप्पड़ मार देना: कल्याण सिंह

नई दिल्ली/ लखनऊ: राजस्थान के गर्वनर और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने पिछड़ा वर्ग के लोगों को संबोधित करते हुए कहा, ‘आरक्षण पिछड़ा वर्ग का हक है और अगर कोई इस हक को छीन ले तो थप्पड़ मारकर इसे वापस ले लेना’. वो पूर्व पीएम वीपी सिंह की जयंती में शामिल होने लखनऊ पहुंचे थे. उन्होंने कहा कि आरक्षण पिछड़ा वर्ग का हक है. कल्याण सिंह लोकबंध वंचित मार्ग महासंघ की तरफ से लखनऊ के रविंद्रालय में पूर्व पीएम वीपी सिंह की स्मृति में आयोजित पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे.

उन्होंने कहा कि जिस तरह से डॉ. भीमराव आंबेडकर ने एससी-एसटी को हक दिलाया, उसी तरह से वीपी सिंह ने पिछड़े वर्ग के लिए काम किया. दोनों वंचितों के लिए मसीहा से कम नहीं थे. यूपी की राजधानी लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम में उन्‍होंने कहा, ‘आरक्षण के लिए कितने संघर्ष करने पड़े हैं, ये कोई पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय वीपी सिंह से पूछे. लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने मंडल कमीशन लागू किया.

उस दौर को याद करते हुए उन्होंने कहा कि जिस समय मंडल कमीशन लागू किया गया था. देश में लोग लाठी-गोली सब कुछ चला, खून भी बहा, लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह ने किसी की परवाह नहीं की और मंडल कमीशन लागू किया. उन्होंने लोगों से कहा कि इस अधिकार को चाहे कोई कितना भी छीनने की कोशिश करें, लेकिन आपको इसे छीनने नहीं देना है.

आरक्षण खत्म करने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि आज तमाम तरह की गलतफहमियां पैदा करने की कोशिश हो रही है कि आरक्षण खत्म कर दिया जाएगा. आरक्षित वर्ग की इस देश में इतनी ज्यादा ताकत है कि शायद ही कोई इसे छू भी नहीं सकता है. इसलिए एकदम बेफिक्र रहिए आरक्षण के प्रावधान को कोई छू भी नहीं पाएगा. उन्होंने कहा कि दुर्भाग्यवश जब आरक्षण खत्म करने की बारी आए तो एक मुट्ठी बांध कर खड़े हो जाना, देखना आपसे कोई भी आपका हक छीन नहीं सकता है.

उन्होंने कहा कि मैं संवैधानिक पद पर हूं. इसलिए गलत बात नहीं सामाजिक बात करने आया हूं. लेकिन, आप मेरी बातों में राजनीतिक संदेश भी ढूंढ सकते हैं. उन्होंने कार्यक्रम में शामिल लोगों को राजनीति करने के लिए प्रेरित किया. उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत से लेकर संसद तक आपकी भागीदारी होनी चाहिए. पार्टियों से टिकट मांगों. उन्हें अपनी ताकत का एहसास कराओ. संगठित होकर फैसला लो. देखना हर पार्टी को आपके आगे नतमस्तक होना पड़ेगा.