EBM News Hindi

NIA के DG का खुलासा, जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश ने भारत में अपनी गतिविधियां बढ़ाई

नई दिल्‍ली, एएनआइ। बांग्लादेशी आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश (Jamaat-ul-Mujahideen Bangladesh, JMB) भारत में तेजी से पांव पसार रहा है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने खुलासा किया है कि भारत में इस आतंकी संगठन ने अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं। एनआईए के डीजी वाईसी मोदी (Yogesh Chander Modi) ने कहा कि जेएमबी बांग्लादेशियों की आड़ में असम, झारखंड, महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक में सक्रिय है। वहीं राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने कहा है कि आतंकियों की मदद करना पाकिस्‍तान की स्‍टेट पॉलिसी है। 

उन्‍होंने बताया कि जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश (Jamaat-ul-Mujahideen Bangladesh, JMB) के 125 संदिग्धों की सूची राज्यों को सौंपी गई है। एनआईए ने बीते दस वर्षों में आईएसआईएस, जेहादी कार्रवाई, टेरर फंडिंग समेत कई क्षेत्रों में जितने मामलों की जांच की है उसमें 90 फीसद दोषी करार दिए गए हैं। उन्‍होंने बताया कि नए एनआईए ऐक्ट से मौजूदा वक्‍त में काफी लाभ मिल रहा है।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल की मौजूदगी में विज्ञान भवन में आयोजित देश के शीर्ष पुलिस अधिकारियों के एक सम्मेलन में एनआईए के आईजी आलोक मित्तल ने भी आतंकी गतिविधियों को लेकर बड़े खुलासे किए। उन्‍होंने बताया कि टेरर फंडिग के मुख्य मामले में जम्मू-कश्मीर के संगठनों के प्रमुख और शीर्ष अलगाववादी नेताओं के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया है। आरोपियों में से किसी को भी बेल नहीं मिली है। राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी ने अपनी जांच में पाया है कि इन सभी आरोपियों की फंडिंग के पीछे पाकिस्‍तान का हाथ है। पाकिस्तानी उच्चायोग हवाला के जरिए उक्‍त आरोपियों की फंडिंग करता था।