EBM News Hindi

मई 2018 में मारुति सुज़ुकी ने दर्ज की बेहतरीन ग्रोथ, जानें किन कारों ने किया कमाल

भारत की सबसे बड़ी ऑटोमेकर कंपनी मारुति सुज़ुकी तरक्की के मामले में रुकने का नाम नहीं ले रही है. भारत में 50 % से भी ज़्यादा मार्केट शेयर रखने वाली इस कंपनी ने पिछले वित्तीय वर्ष के मई की तुलना में मई 2018 की कुल बिक्री में 26 % की ग्रोथ दर्ज की है. पिछले साल इसी समय कंपनी ने घरेलू बाज़ार में 24.9 % और वाहन निर्यात में 48.1 % ग्रोथ दर्ज की है. कंपनी की बिक्री में हुई इस बढ़ोतरी के लिए मारुति सुज़ुकी की कॉम्पैक्ट कारों का बहुत बड़ा हाथ है जिनमें सेलेरियो, इग्निस, बलेनो और डिज़ायर के साथ हालिया लॉन्च स्विफ्ट जैसी कारें शामिल हैं. मई 2017 के मुकाबले इस सैगमेंट में कंपनी ने 77,263 यूनिट के साथ 50.8 % बढ़ोतरी दर्ज की है. इसमें भी सबसे ज़्यादा बिकने वाली तीन कारें नई स्विफ्ट, डिज़ायर और बलेनो हैं.

विटारा ब्रेज़ा ने 13.4 % बढ़ोतरी दर्ज की है

यूटिलिटी वाहनों में भी मारुति सुज़ुकी काफी ग्रोथ कर रही है और मई 2017 के मुकाबले 25,629 यूनिट के साथ विटारा ब्रेज़ा ने 13.4 % बढ़ोतरी दर्ज की है. हमारा मानना है कि जून 2018 में कंपनी की ये कॉम्पैक्ट एसयूवी और भी बेहतर प्रदर्शन करेगी क्योंकि हाल ही में विटारा ब्रेज़ा को ऑटोमैटिक गियरबॉक्स के साथ लॉन्च किया गया है. दिलचस्प है कि मारुति के वैन सैगमेंट में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई है और ईको और ओमिनी ने 2017 की तुलना में मई 2018 में 16,717 यूनिट के साथ 32.7 % ग्रोथ दर्ज की है. गौरतलब है कि मारुति ओमिनी भारत में सबसे पुराने वाहनों में से एक है और अब भी बेची जा रही है, कंपनी ने इस वैन में लगभग 1 दशक से कोई बदलाव नहीं किया है.

मारुति सुज़ुकी के हल्के कमर्शियल वाहनों में सबसे बड़ा उछाल आया है और पिछले वित्तीय वर्ष के मुकाबले मई 2018 में 297.9 % की ग्रोथ दर्ज की गई है. कुछ सैगमेंट ऐसे भी हैं जिनकी कुल बिक्री में गिरावट दर्ज की गई है और छोटी हैचबैक कारों में 3.1 % विक्रय गिरावट आई है. मारुति सुज़ुकी अल्टो और वैगनआर की बिक्री में गिरावट आना शुरू हो गई है, यह इस बात के संकेत हैं कि भारतीय कार ग्राहक अब बड़े बजट की कारें ज़्यादा पसंद कर रहे हैं. कंपनी की कॉम्पैक्ट सिडान सिआज़ की बिक्री में भी गिरावट आई है और मई 2018 में 4,024 यूनिट के साथ इस सैगमेंट में 14.8 % की गिरावट दर्ज की गई है.