EBM News Hindi

LIVE MP Political Crisis: बागी विधायकों का पुलिस से अनुरोध, किसी कांग्रेसी नेता से नहीं मिलना चाहते

0

बेंगलुरु। मध्य प्रदेश में जारी सियासी उठापटक के बीच बेंगलुरु में मौजूद 22 विधायकों ने कर्नाटक पुलिस के डायरेक्टर जनरल को पत्र लिखकर कहा है कि उनसे मिलने के लिए किसी कांग्रेसी नेता या सदस्य को अनुमति न दी जाए, ताकि उनकी जिंदगी और सुरक्षा खतरे में न पड़े। बता दें कि आज सुबह दिग्विजय सिंह बेंगलुरु पहुंचने के बाद विधायकों से मिलने रामदा होटल पहुंचे। उनसे मिलने की इजाजत न मिलने के बाद वे धरने पर बैठ गए थे। इसके बाद उन्हें हिरासत में ले लिया गया।

वहीं, कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल दोपहर 1.45 मिनट पर राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात करने वाला है। इससे पहले फ्लोर टेस्ट की मांग को लेकर दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान कांग्रेस विधायकों की ओर से वकील दुष्यंत दवे ने कहा कि ने कहा कि आज हम एक अजीबोगरीब स्थिति में हैं। मध्य प्रदेश की जनता ने कांग्रेस पर भरोसा जताया था। 18 महीने से सरकार अच्छे से काम कर रही थी।

दुष्यंत दवे ने न्यायालय को यह भी बताया कि भाजपा ने बल का इस्तेमाल करके लोकतांत्रिक सिद्धांतों को खतरे में डाल रही है। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता शिवराज सिंह चौहान ने ये दायर याचिका की है। मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि अगर जरूरत पड़ी तो वे भी विधायकों से मिलने बेंगलुरु जा सकते हैं।

गौरतलब है कि शिवराज सिंह चौहान की याचिका पर मंगलवार को अदालत ने याचिका पर सुनवाई करते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति को नोटिस जारी किया था। न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता की अध्यक्षता वाली एक खंडपीठ ने मुख्यमंत्री, स्पीकर, विधानसभा के प्रमुख सचिव, मध्य प्रदेश और राज्यपाल को नोटिस जारी किया था।