EBM News Hindi

INX मीडिया मामले में सीबीआई ने चिदंबरम को 6 जून को पेश होने को कहा

नई दिल्लीः सीबीआई ने आईएनएक्स मीडिया में विदेशी निवेश की मंजूरी में कथित अनियमितता के सिलसिले में पूछताछ के लिए पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को 6 जून को पेश होने के लिए कहा है. आईएनएक्स मीडिया की शुरूआत पूर्व मीडिया दिग्गज पीटर मुखर्जी और उनकी पत्नी इंद्राणी ने की थी. सूत्रों ने बताया कि चिदंबरम को गुरुवार (31 मई) को इस मामले में पूछताछ के लिए बुलाया गया था लेकिन उन्होंने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के नोटिस के अनुपालन के लिए कोई दूसरी तारीख मांगी थी.

दिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को चिदंबरम को मामले में तीन जुलाई तक गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण प्रदान किया था.आईएनएक्स मीडिया को 305 करोड़ रूपये के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड की मंजूरी के सिलसिले में चिदंबरम की कथित भूमिका जांच एजेंसियों की जांच के घेरे में आई है.

अदालत ने जांच एजेंसी से कांग्रेस नेता की अग्रिम जमानत याचिका पर जवाब मांगा है और इस मामले में अगली सुनवाई तीन जुलाई को तय की है. सीबीआई की तरफ से पेश हो रहे अतिरिक्त सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता ने अग्रिम जमानत याचिका का विरोध करते हुये कहा कि उन्हें सिर्फ पूछताछ के लिये बुलाया गया था.

इससे पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम ने बुधवार (30 मई) को दिल्ली की एक अदालत का रुख करते हुए एयरसेल मैक्सिस धन शोधन मामले में गिरफ्तारी से बचाव के लिए याचिका दायर की. वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने विशेष न्यायाधीश ओ पी सैनी के समक्ष अग्रिम जमानत याचिका दायर की. विशेष न्यायाधीश ने चिदंबरम को पांच जून को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष पेश होने के निर्देश दिए थे. ईडी ने भी चिदंबरम को सम्मन भेजा था.

अदालत ने ईडी को पांच जून तक जवाब दाखिल करने के लिए नोटिस जारी किया था. अदालत ने ईडी को यह भी निर्देश दिया था कि वह तब तक इस मामले में चिदंबरम के खिलाफ कोई कार्रवाई ना करें. चिदंबरम की ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी ने अदालत से अनुरोध किया कि वह इस बात पर विचार करते हुए उन्हें राहत दे कि पूर्व मंत्री की छवि साफ रही है और उनका समाज में गहरा प्रभाव है.

चिदंबरम ने बीते 30 मई को एयरसेल-मैक्सिस मामले में गिरफ्तारी से बचाव के लिये एक सुनवाई अदालत में याचिका दायर की थी और इसके बाद आईएनएक्स मीडिया मामले में दिल्ली उच्च न्यायालय में राहत के लिये याचिका दायर की. जांच एजेंसी ने इस मामले में पूछताछ के लिये उन्हें तलब किया था.

(इनपुट भाषा से भी)