EBM News Hindi

हापुड़ मॉब लिंचिंग: पीड़ित हो या आरोपी, किसी परिवार को हजम नहीं हो रही पुलिस थ्योरी

उत्तर प्रदेश के हापुड़ जिले में एक शख्स को भीड़ की ओर से पीट-पीट कर मार डालने की जो घटना हुई, उसने पुलिस की कार्यशैली को लेकर भी गंभीर सवाल खड़े किए हैं. हापुड़ जिले के बछेड़ा खुर्द गांव में 18 जून को हुई इस घटना में भीड़ ने एक और शख्स की भी पिटाई की थी, जिसकी अस्पताल के आईसीयू में हालत नाजुक बनी हुई है.

गोरक्षा के नाम पर हुए भीड़ के हमले को कथित तौर पर दिखाने वाले दो वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुए. पुलिस की ओर से दर्ज एफआईआर में इस पूरे प्रकरण को रोडरेज की घटना से जोड़ कर दिखाया गया. घटना से जुड़े दोनों पक्षों ने पुलिस की इस थ्योरी को खारिज किया है.

हादसे के गवाह 2 वीडियो

हमले में कासिम नाम के शख्स की मौत हुई और अस्पताल में भर्ती शख्स का नाम समीउद्दीन है. सोशल मीडिया पर जो दो वीडियो सामने आए उनमें एक में दिख रहा है कि बुरी तरह घायल कासिम को भीड़ घसीटते ले जा रही है. दूसरे वीडियो में देखा जा सकता है कि समीउद्दीन को धमकाते हुए गोकशी में शामिल होना कबूल करने के लिए दबाव डाला जा रहा है.

इसी घटना से जुड़ी ऐसी तस्वीर भी सामने आई जिसमें कुछ लोग कासिम को हाथ पैर पकड़कर घसीटते ले जा रहे हैं और उनके आगे पुलिसकर्मी चल रहे हैं. पुलिस की अमानवीयता को दिखाने वाली ये तस्वीर वायरल हुई तो यूपी पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से माफी मांगने में देर नहीं लगाई थी.

हापुड़ पुलिस की ओर से दाखिल एफआईआर की प्रति इंडिया टुडे के पास मौजूद है. इसके मुताबिक पुलिस की ओर से घटना की जांच जारी है. साथ ही इसमें दावा किया गया है कि ये घटना रोडरेज की वजह से हुई जिसके बाद गुस्साई भीड़ ने कासिम पर हमला कर किया. पुलिस के मुताबिक समीउद्दीन कासिम को बचाने आया तो उस पर भी हमला किया गया.

बड़े षडयंत्र का हिस्सा ये घटनाएं

कासिम का मकान हापुड़ जिले के पिलखुवा कस्बे की एक संकरी गली में है. कासिम के परिवार में पत्नी और दो बेटे हैं. कासिम के घर पर सामाजिक कार्यकर्ता और एनजीओ के सदस्य आकर इंसाफ की लड़ाई में साथ होने का भरोसा दिला रहे हैं. जॉन दयाल और हर्ष मंदर जैसे सामाजिक कार्यकर्ता हापुड़ की इस घटना को किसी बड़े षड्यंत्र का हिस्सा बता रहे हैं.

जॉन दयाल का कहना है कि देश के कुछ हिस्सों से इस तरह की हत्याओं में एक सा पैटर्न सामने आने से लगता है कि ये किसी बड़े राजनीतिक षड्यंत्र का हिस्सा है जिससे समाज को ध्रुवीकरण के जरिए बांटा जा सके. हर्ष मंदर का भी ऐसा ही मानना है.

कासिम की मौत से उनका परिवार शोकाकुल है. कासिम के दोनों बेटे नदीम और सलीम ने ‘आज तक’ से बातचीत में पिता की मौत को षड्यंत्र का ही हिस्सा बताया. सलीम ने कहा कि उनके पिता भेड़ बकरियों की खरीद बेच से ही परिवार का गुजारा चलाते थे, लेकिन गोकशी से उनका कभी कोई जुड़ाव नहीं रहा.

नदीम के मुताबिक उसके पिता कासिम हर बार की तरह 18 जून को भी बछ़ेड़ा खुर्द गांव में बकरियां खरीदने गए थे, लेकिन एक षड्यंत्र के तहत वहां मोटरसाइकिल के जरिए छोटा सा सड़क हादसा करवाया गया. नदीम का आरोप है कि हादसे के बाद सुनियोजित ढंग से गोरक्षा के नाम पर बुलाई गई भीड़ ने उसके पिता कासिम पर हमला किया. कासिम के परिवार का आरोप है कि भीड़ से ज्यादा जिम्मेदार यूपी पुलिस है जिसने ना समय रहते मदद की और ना ही अपराधियों पर कार्रवाई की.

कासिम के पड़ोसियों का मानना है कि इस तरह की घटनाओं से सामाजिक भाईचारे के माहौल पर असर पड़ सकता है. 75 साल के बुजुर्ग अब्राहिम को लगता है कि एक षड्यंत्र के तहत कासिम की हत्या की गई. वहीं 28 वर्षीय फिरोज के मुताबिक भारत का सामाजिक तानाबाना इतना मजबूत है कि ऐसी घटनाएं सामाजिक सौहार्द को प्रभावित नहीं कर सकती.

बछेड़ा खुर्द गांव में सन्नाटा पसरा

पिलखुवा कस्बे से करीब छह किलोमीटर की दूरी पर स्थित बछेड़ा खुर्द गांव में सन्नाटा पसरा है. उत्तर प्रदेश पुलिस और पीएसी के जवान यहां पहरा देते नजर आते हैं.

पुलिस ने बछ़ेड़ा खुर्द गांव से राकेश सिसोदिया और युधिष्ठिर नाम के दो लोगों की गिरफ्तारी की है. कई अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. पुलिस कार्रवाई के डर के चलते कई लोग गांव छोड़ कर चले गए हैं.

राकेश सिसोदिया का परिवार हापुड़ पुलिस से बेहद खफा है. 45 वर्षीय राकेश सिसोदिया की बेटी नेहा सिसोदिया का कहना है कि उसके पिता निर्दोष हैं और पुलिस ने फर्जी मुकदमे में फंसाया है. नेहा के मुताबिक असल में जो आरोपी हैं पुलिस ने उन पर हाथ भी नहीं डाला.

नेहा और उनकी मां का आरोप है कि कासिम हमेशा की तरह उस दिन भी इस गांव में गोकशी के लिए ही आया था. सिसोदिया परिवार का आरोप है कि जब गांव वालों को पता चला कि कासिम गोकशी के लिए आया है तो भीड़ खेत में पहुंची, वहां गाय और बछड़े बंधे हुए पाए गए.

नेहा सवाल करती हैं कि फिर पुलिस ने उनके पिता के खिलाफ मुकदमा क्यों दर्ज किया? नेहा का ये भी आरोप है कि कासिम पुलिस के आने तक ठीक ठाक स्थिति में था और उसकी मौत दरअसल पुलिस की कस्टडी में हुई.

सदमे में घायल समीउद्दीन का परिवार

सिसोदिया परिवार भी पुलिस द्वारा FIR में दर्ज रोडरेज की दलील को खारिज करते हुए कासिम को गोहत्या का अपराधी मानता है. पड़ोस में रहने वाली महिलाओं ने भी सिसोदिया परिवार के आरोपों का समर्थन किया.

बछ़ेडा खुर्द गांव से थोड़ी ही दूर समीउद्दीन का घर है. समीउद्दीन की अस्पताल में जहां हालत नाजुक हैं वहीं घर पर परिवार सदमे में है. समीउद्दीन के बेटे और बेटी का कहना है कि हर रोज की तरह उनके पिता खेत में काम करने गए थे. वहां जब भीड़ ने कासिम पर हमला किया तो कासिम की मदद के लिए आगे गए थे. समीउद्दीन के बेटे ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर आतंक फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो रही इसलिए वो बेखौफ हैं.

बहरहाल इस तरह की घटनाएं जहां समाज को हिला देती हैं वहीं कानून के रखवालों की कार्यशैली को भी सवालों के घेरे में लाती है. पुलिस जो थ्योरी दे रही है उससे संबंधित पक्षों में कोई भी सहमत नजर नहीं आता. ऐसे में बड़ा सवाल ये कि पुलिस पीड़ितों को इंसाफ दिलाएगी तो दिलाएगी कैसे?