EBM News Hindi

जौनपुर: नोट नहीं गिन पाया दूल्हा तो बारातियों को बनाया बंधक, बिना दुल्हन के लौटी बारात

नई दिल्ली/ जौनपुर: जौनपुर के थाना क्षेत्र के परानापट्टी गांव में निवासी जमुना प्रसाद यादव के घर में ढोल नगाड़े बज रहे थे. बारात घर पहुंच गई थी, लेकिन तभी कुछ ऐसा हुआ कि शादी की खुशियां काफूर हो गई. शुक्रवार (22 जून) को उस समय हंगामा खड़ा हो गया जब दुल्हन ने दूल्हे पर अनपढ़ और मंदबुद्धि होने का आरोप लगाते हुए उसके साथ जाने से इंकार कर दिया. दरअसल, शादी के बाद दूल्हे को लड़की के घरवालों ने कुछ रुपए गिनने के लिए दिए गए. लेकिन दूल्हा नोटों को नहीं गिन पाया. हंगामा शुरू हुआ, जिसके बाद पंचायत और पुलिस ने सुलह की कोशिश की, लेकिन कोई हल नहीं निकला. दूल्हे पक्ष को बारात बिना दुल्हन के बैरंग लौटना पड़ा.

फेरों की रस्म हो गई थी पूरी
बाताया जा रहा है कि जयमाल होने के बाद वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच दोनों ने सात फेरे लेकर सात जन्मों तक साथ रहने की कसमें खाईं. लेकिन, जैसे ही दूल्हा-दुल्हन कोहबर में रस्म अदा करने पहुंचे. इस दरम्यान वर पक्ष की महिलाओं द्वारा दूल्हे को कुछ रुपये देकर गिनने को दिए. जिसे वो नहीं गिन पाया. तभी दुल्हन पक्ष की महिलाएं युवक को अनपढ़ और मंदबुद्धि बताने लगी. ये सुनते ही दुल्हन ने ससुराल जाने से इंकार कर दिया.

बारातियों को बनाया बंधक
ये बात जब घर के बाहर पहुंची तो लड़की के गुस्साए परिजनों ने दूल्हे समेत सभी बारातियों को बंधक बना लिया. दुल्हन पक्ष दूल्हे पक्ष से दहेज और शादी में खर्च हुए रुपयों की मांग करने लगे. काफी लड़ाई-झगड़ा हुआ, लेकिन कोई निकर्ष नहीं निकाला. पूरी रात पंचायत चली लेकिन नतीजा नहीं निकला.

पुलिस ने कराई सुलह
पंचायत में जब कोई हल नहीं निकला, तो मामला पुलिस तक पहुंचा. पुलिस ने किसी तरह दुल्हन पक्ष को समझाया और बारातियों को छुड़ाया. बराता को बैरंग लौटना पड़ा. बारात सरायखाजा थाना क्षेत्र के हमजापुर गांव से आई थी.