EBM News Hindi

मुरादाबाद : बेटे की चाहत में बेटी की बलि चढ़ाकर शव दफनाने का आरोप, तंत्र-मंत्र की आशंका

मुरादाबाद : मुरादाबाद के मझोला थाना क्षेत्र में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है. इसमें बेटे की चाहत में बेटी की बलि चढ़ाकर उसे घर में दफन कर दिया गया. इसकी भनक जैसे ही पड़ोसियों को लगी तो पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई. सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है.

पुलिस ने घर में खुदाई करवाकर बच्ची का शव निकलवाया और पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया. मामले में चौंकाने वाली बात ये सामने आई कि बच्ची की मौत दम घुटने से हुई है. फिलहाल पुलिस परिजनों से पूछताछ कर रही है. इस पूरे मामले में तंत्र-मंत्र की संभावना इसलिए भी बढ़ गई है क्‍योंकि बच्ची की सौतेली मां गर्भवती है.

यहां के मझोला थाना क्षेत्र के गांव चौधरपुर निवासी अनंत पाल की शादी दस महीने पहले संभल निवासी चार बच्चों की मां मोनी से हुई थी. मोनी के पहले पति की मौत हो चुकी है. अनंत पाल की पहली पत्नी की पांच साल की बेटी तारा की मौत शुक्रवार को हो गई. इसके बाद परिवार वालों ने उसे घर में ही दफना दिया. जब ये जानकारी गांव वालों को हुई तो उन्हें शक हुआ. क्‍योंकि पहले भी अनंत पाल की पहली पत्नी के एक बच्चे की मौत हो चुकी है. अब तारा की मौत के बाद उसे घर में दफनाने से पड़ोसियों के कान खड़े हो गए.

पड़ोसियों ने शनिवार को इस घटना की सूचना पुलिस को सूचना दी. जिस पर मौके पर पहुंची मझोला पुलिस ने बच्ची के शव को घर से खुदवाकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया. पोस्टमार्टम हाउस के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बच्ची की मौत दम घुटने से हुई है. यह बात उसके साथ तंत्र मंत्र जैसी घटना होने पर मुहर लगाती दिखती है. पड़ोसियों के मुताबिक मोनी इस समय गर्भवती है और वो अपनी सास के साथ मिलकर किसी तांत्रिक के टच में हैं.

बताया जा रहा है कि किसी तांत्रिक ने बच्ची को मार कर दफनाने की सलाह दी हो. वरना बच्ची की बीमारी से मृत्‍यु के बाद उसे इस तरह घर में क्यों दफनाया गया. ये बड़ा सवाल है. वहीं इस घटना में ये भी सामने आया है कि ये परिवार आर्थिक रूप से बेहद कमजोर है और बच्चे मिड डे मील का खाना ही खा पाते थे. कभी कभार भूखा भी रहना पड़ता था. जिस पर पड़ोसी खाना देते थे. वहीं मरने वाली बच्ची तारा की मां मोनी का कहना है कि वो बीमार थी और सूखा रोग से ग्रस्त थी. जिस कारण उसकी मौत हो गई है.

सीओ सिविल लाइंस अपर्णा गुप्ता ने बताया कि हर बिंदु की बारीकी से जांच की जा रही है. अगर बच्ची के साथ वाकई कुछ गलत हुआ है तो जिम्मेदारों पर सख्त कार्रवाई होगी. उन्होंने यह भी बताया कि परिजनों से पूछताछ में मृतक बच्ची के परिजनों ने बताया कि बच्ची सूखा रोग से पीड़ित थी और दो दिन पहले हुई बरसात में भीग जाने की वजह से तबीयत खराब हो गई थी. इसके बाद बीमारी के कारण तारा मौत हो गई.