EBM News Hindi

दिल्लीः जहरखुरानी गैंग का पर्दाफाश, ट्रक मालिक ही निकला सरगना

दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है, जो बड़े ही शातिराना तरीके से सामान से लदे पूरे के पूरे ट्रक के माल पर हाथ साफ कर देते थे और किसी को उनकी भनक तक नहीं लगती थी. पुलिस को मिलते थे सिर्फ खाली ट्रक और नशे की हालत में ड्राइवर और हेल्पर.

ऐसी कई घटनाएं सामने आने पर दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने इस केस की जांच शुरू की तो पता चला कि मदनपाल नाम का एक शख्स है, जिसने एक बड़े ट्रांसपोर्टर के यहां अपने ट्रक लगा रखे हैं. हाल ही में जिन दो ट्रकों का माल गायब हुआ था, वो भी मदनपाल के ही ट्रक थे, लेकिन उनमें सामान ट्रांसपोर्टर का था.

पुलिस ने जब पीड़ित ड्राइवर से बात की तो उसने बताया कि वो लोग 27 मई की रात अपना ट्रक लोड कराकर चेन्नई के लिए निकले थे. इसके पहले मदन के कर्मचारी ने उन्हें पीने के लिए जूस दिया था, जिसके बाद वो बेहोश हो गए. और जब उन्हें होश आया तो वो साहिबाबाद इलाके में थे. ट्रक में लदा सारा सामान गयाब था.

इसके बाद पुलिस ने मदन की कॉल डीटेल चेक की तो पता चला कि मदन की बात कई बार वारदात वाली रात कासिम नाम के एक स्क्रैप डीलर से हुई थी. कासिम का एक गोदाम सीलमपुर में था. पुलिस की टीम जब पहुंची तो वहां से चोरी का सारा सामान बरामद हो गया.

इसके बाद पुलिस ने कासिम और मदन को हिरासत में ले लिया. पूछताछ में कासिम ने बताया कि मदन ने उसे चोरी का माल रखने के लिए कहा था. मदन ने पुलिस को बताया कि उस पर कर्ज हो गया था, इसलिए उसने ये पूरी साजिश रची.

इसके लिए उसने पहले दुकान से पांच पत्ते 81 नम्बर की टैबलेट खरीदी, वैसे तो ये दवा ही है, लेकिन अगर इस दवा को ज्यादा मात्रा मे दे दी जाए तो कोई भी शख्स बेहोश हो जाएगा. मदन ने जूस में इस दवा को मिला कर ड्राइवर और उसके सहयोगी को पिला दिया और जब दोनों बेहोश हो गए तो वो ट्रक लेकर सीलमपुर चले गए.

सीलमपुर में ट्रक में लदा सारा सामान चुरा लिया गया, जिसकी कीमत करीब डेढ़ करोड़ रुपये थी. इसके बाद ट्रक और ड्राइवर को साहिबाबाद में छोड़ दिया गया.