EBM News Hindi

CM समेत कई मंत्रियों के इलाके में AAP नंबर-3

नई दिल्‍ली। लोकसभा चुनाव में मोदी लहर पर सवार बीजेपी ने दिल्‍ली की सातों सीटों पर विशाल जीत दर्ज की। बीजेपी के सभी उम्मीदवारों ने 50 प्रतिशत से अधिक वोट हासिल करते हुए विशाल अंतर से अपनी जीत का परचम लहराया। बीजेपी की इस जीत में खास बात यह रही कि 70 विधानसभा सीटों में 65 पर बीजेपी का दबदबा दिखा। सिर्फ 5 मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में कांग्रेस को ज्यादा वोट मिले, जबकि अरविंद केजरीवाल की पार्टी ज्यादातर सीटों पर तीसरे नंबर पर रही। अंग्रेजी अखबार टाइम्‍स ऑफ इंडिया की की खबर के मुताबिक सभी सात सीटों पर क्लीन स्वीप करने वाली बीजेपी को कुल 56.6 फीसदी वोट मिले। कांग्रेस के खाते में 22.5 फीसदी वोट आए। जबकि आम आदमी पार्टी को सिर्फ 18.1 फीसदी लोगों ने वोट दिया। यानी अगर आप और कांग्रेस के बीच गठबंधन हो भी जाता तो भी ये दोनों मिलकर भी बीजेपी को नहीं हरा पाते।
दिल्ली सरकार में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित 7 मंत्री कैबिनेट में हैं। ये कैबिनेट मंत्री लोकसभा चुनाव में अपनी-अपनी विधानसभा सीट भी नहीं बचा पाए। यहां तक की अरविंद केजरीवाल, गोपाल राय, इमरान हुसैन और कैलाश गहलोत को इतने कम वोट मिले की जमानत जब्त हो जाती। ये कुल वैध वोट का छठा हिस्सा भी नहीं जुटा पाए। हालांकि राजेंद्र पाल गौतम, मनीष सिसोदिया, सत्येंद्र जैन की जमानत जरूर बच रही है।
कांग्रेस ने इस चुनाव में अपने मत फीसद में सुधार किया है। पार्टी को 2014 के लोकसभा चुनाव में 15 तो विधानसभा चुनाव में दस फीसद से भी कम मत मिले थे, जबकि इस लोकसभा चुनाव में उसे 22.5 फीसद मत मिले हैं, वहीं AAP को 18 फीसद मत मिले हैं। यही नहीं कांग्रेस 42 विधानसभा क्षेत्रों में दूसरे स्थान पर रही है। AAP 47 विधानसभा क्षेत्रों में तीसरे नंबर पर पिछड़ गई है, जबकि 23 में वह दूसरे स्थान पर रही। हालांकि, दक्षिणी दिल्ली संसदीय क्षेत्र में आने वाले सभी दसों विधानसभा क्षेत्रों में वह दूसरे नंबर पर रही है।