EBM News Hindi

38 साल बाद सेना ने किया था रिटायर, बाबा हरभजन सिंह और उन पर आस्था की पूरी कहानी

नई दिल्ली । भारतीय सेना में जांबाजों की कभी कमी नहीं रह गई। एक से बढ़कर एक जांबाज भारतीय सेना में रहे जिसकी वजह से बाकी जवानों के हौसले भी बुलंद रहते हैं। सेना में एक ऐसा ही जांबाज जवान शामिल था उसका नाम था सिपाही हरभजन सिंह। मात्र 22 साल की उम्र में ग्लेशियर से गिरने के कारण उनकी जान चली गई थी। बर्फ में दफन हो जाने के बाद भी लगभग 38 साल तक सेना ने उन्हें रिटायर नहीं किया। 38 साल के बाद साल 2006 में उन्हें सेना से अधिकारिक तौर पर रिटायर किया गया। इस दरम्यान उनको प्रमोशन भी दिया गया।

दिन रात जगकर करते थे रखवाली

दरअसल उन दिनों चीनी सेना डोकलाम के मुद्दे पर लगातार भारतीय सेना को धमकी दे रहा था। चीन भारत को उखाड़ फेंकने की बात कह कर भारतीय सेना के जवानों पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा था मगर उनको भारतीय सेना में हरभजन सिंह जैसे जवानों के होने का अंदाजा नहीं था। हरभजन सिंह दिन रात जागकर चीनी सेना की हर हिमाकत पर कड़ी नजर रखते थे। वो सीमा पर होने वाली हर गतिविधि के बारे में भारतीय सेना को पहले ही सतर्क कर देते थे।