EBM News Hindi

हरियाणा का घाघौट गांव बना नया जामताड़ा, लग्जरी कारों से जाते हैं देशभर में करने ठगी

फरीदाबाद। कहा जाता है कि देशभर में होने वाले 80 फीसद साइबर ठगी के मामले किसी ना किसी रूप में झारखंड के जामताड़ा से जुड़ते हैं। पलवल का घाघौट गांव भी जामताड़ा बनने की राह पर है। एटीएम के अंदर मदद के बहाने लोगों के डेबिट कार्ड बदलकर खाता साफ करने के मामले में बदनाम हो रहा है। गांव में युवकों के सात-आठ गिरोह सक्रिय हैं। जो देशभर में वारदात करते हैं। देश के विभिन्न राज्यों में घाघौट के 50 से अधिक युवा गिरफ्तार हो चुके हैं।

हाल ही में राजस्थान पुलिस ने इस गांव निवासी जॉनी बावरिया नाम के एक शख्स को गिरफ्तार किया है। वह भी लंबे समय से अपने गिरोह के साथ एटीएम ठगी में सक्रिय था। फरीदाबाद पुलिस भी तीन साल के अंदर घाघौट गांव के 10 से अधिक युवकों को गिरफ्तार कर चुकी है। दिल्ली पुलिस भी लगातार इस गांव के युवकों को गिरफ्तार करती है। बदमाशों को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमले भी हो चुके हैं।

इस गिरोह पर लंबे समय तक काम करने वाले इंस्पेक्टर सतेंद्र कुमार ने बताया कि ये लग्जरी कारों से अलग-अलग टीम बनाकर ठगी के लिए निकलते हैं। एक टीम में चार से पांच युवा शामिल होते हैं। वारदात के लिए निकलते वक्त कारों में जीपीएस से रूट बनाकर सेट कर देते हैं। सभी टीमें अलग-अलग दिशाओं में निकलती हैं। एक शहर में दो से अधिक वारदातें नहीं करते। एक टीम पलवल से कोटपूतली, जयपुर, सीकर, चूरू, बीकानेर, नागौर, जोधपुर, जालौर से होते हुए गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक व तमिलनाडु तक जाएगी।