EBM News Hindi

विदेशी सांसदों के श्रीनगर जाने पर संसद में सियासत गरम करेगा विपक्ष

नई दिल्ली। यूरोप के कुछ देशों के सांसदों को जम्मू-कश्मीर ले जाने के सवाल पर विपक्ष ने सरकार की घेरेबंदी तेज कर दी है। विदेशी सांसदों के भ्रमण को जम्मू-कश्मीर के आतंरिक मामले में बाहरी दखल मान रहे विपक्ष ने साफ कर दिया है कि सड़क से संसद तक इस मुद्दे पर सरकार को कड़े सवालों के जवाब देने होंगे। संसद के आगामी शीत सत्र में विपक्ष ने अपने सांसदों के जम्मू-कश्मीर जाने पर पाबंदी और विदेशी सांसदों की मेहमानवाजी को लेकर सियासी संग्राम के इरादों का संकेत भी दे दिया है।

देश के सांसदों पर पाबंदी और विदेशी सांसदों की मेहमानवाजी

विपक्षी दलों को सबसे ज्यादा एतराज इस बात को लेकर है कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद सरकार अपने देश के सांसदों और नेताओं को वहां जाने की इजाजत नहीं दे रही। वहीं, यूरोपीय देशों के जिस 23 सदस्यीय सांसदों के दल को सरकारी मेहमान बनाकर श्रीनगर भेजा गया है उनमें अधिकांश की पृष्ठभूमि विवादित है और उनके अपने देश में ही उनकी विश्वसनीयता सवालों के घेरे में रही है।

कई विदेशी सांसदों की विश्वसनीयता संदेहास्पद हैं

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा के अनुसार सरकार का यह पीआर एक्सरसाइज गलत सलाह पर आधारित है। इसमें शामिल कई विदेशी सांसदों की विश्वसनीयता संदेहास्पद रही है और वे अपने देश की मुख्यधारा की कूटनीति के प्रतिकूल विचार रखते हैं।

विरोधियों ने अपनों को रोकने और बाहरियों को घुमाने को बताया गलत

 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा कि यह पहल कूटनीतिक आपदा से कम नहीं और इसके लिए जो भी जिम्मेदार है उस पर कार्रवाई होनी चाहिए।

प्रियंका गांधी ने साधा भाजपा के राष्ट्रवाद पर निशाना

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भाजपा के राष्ट्रवाद पर सवाल उठाया है। प्रियंका ने ट्वीट कर कहा कि ‘कश्मीर में यूरोपीय सांसदांे को सैर-सपाटा और हस्तक्षेप की इजाजत, लेकिन भारतीय सांसदों और नेताओं को पहुंचते ही हवाई अड्डे से वापस भेजना। बड़ा अनोखा राष्ट्रवाद है यह।’ कांग्रेस और वाम दलों के नेताओं ने तो यूरोपीय देशों के इन सांसदों की यात्रा का प्रबंधन करने वाले एनजीओ पर भी सवाल उठाए हैं।