EBM News Hindi

विकीलीक्‍स फाउंडर जूलियन असांजे को हिरासत में लेना चाहता है स्‍वीडन

कोपेनहेगन। स्‍वीडन ने सोमवार को विकीलीक्‍स फाउंडर जूलियन असांजे की हिरासत के लिए अनुरोध किया है। असांजे इस समय लंदन की जेल में बंद हैं। स्‍वीडन के अभियोजक की ओर से इस बात की जानकारी दी गई है। स्‍वीडन की वकील इवा मारिया प्रेरसॉन कहा कि अगर स्‍वीडन की कोर्ट असांजे को बलात्‍कार के आरोप में हिरासत में लेने का फैसला करती है तो फिर वह यूरोपियन अरेस्‍ट वॉरंट जारी करेंगी। स्‍वीडन की इस नई मांग के बाद इस बात की पूरी संभावना है कि अमेरिका के साथ उसके संबंधों में असांजे के प्रत्‍यर्पण को लेकर तनाव की स्थिति पैदा हो सकती है।असांजे को पिछले माह इक्‍वाडोर के दूतावास से लंदन की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। असांजे यहां पर साल 2012 से रह रहे थे। दूतावास से उन्‍हें इक्‍वाडोर के नए राष्‍ट्रपति के आदेश के बाद निकाल दिया गया था। 11 अप्रैल को लंदन की पुलिस ने उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया। एक मई को लंदन कोर्ट ने उन्‍हें 50 हफ्तों की जेल की सजा सुनाई। ऑस्‍ट्रेलियाई नागरिक असांजे पर अमेरिका की ओर से प्रत्‍यर्पण से जुड़ा एक वॉरेंट भी जारी किया गया है। अमेरिका ने असांजे पर आरोप लगाया है कि वह पेंटागन के कंप्‍यूटर में सेंध लगाने की साजिश रच रहे थे। प्रेरसॉन ने सोमवार को कहा कि ब्रिटिश अथॉरिटीज इस बात का फैसला करेंगी

साल 2010 में लगा रेप का आरोप
यूरोपियन अरेस्‍ट वॉरेंट और अमेरिका की ओर से असांजे के लिए आई प्रत्‍यपर्ण के अनुरोध में किसी तरह का कोई टकराव न हो। 13 मई को स्‍वीडन की अथॉरिटीज ने असांजे के खिलाफ जांच को नए सिरे से शुरू कर दिया है। असांजे साल 2010 में स्‍वीडन गए थे और यहां पर दो महिलाओं ने उन पर बलात्‍कार का आरोप लगाया था। उनका कहना था कि वे दोनों असांजे के सेक्‍स क्राइम्‍स की पीड़‍ित हैं। साल 2017 में असांजे के खिलाफ गलत यौन व्‍यवहार से जुड़ा केस खारिज कर दिया गया लेकिन रेप के आरोप उन पर बने रहे। स्‍वीडन की अथॉरिटीज कुछ नहीं कर सकती थीं क्योंकि असांजे इक्‍वाडोर के दूतावास में रह रहे थे।