EBM News Hindi

रोहित शर्मा ने रिकॉर्ड्स की बौछार के बीच टेस्ट क्रिकेट में बना दिया सबसे शर्मनाक रिकॉर्ड

नई दिल्ली, जेएनएन। India vs South Africa 1st test match 2019: रोहित शर्मा (Rohit Shamra) ने बतौर ओपनर अपने पहले ही टेस्ट मैच में की दोनों पारियों में शतक लगाकर कई रिकॉर्ड्स अपने नाम किए। रोहित शर्मा ने दिखा दिया कि वो सिर्फ टी20 या वनडे ही नहीं टेस्ट क्रिकेट में भी ओपनिंग बल्लेबाजी की जिम्मेदारी निभाने की काबिलियत रखते हैं। रोहित शर्मा की दोनों पारियां बेहतरीन रहीं और इससे टीम इंडिया को एक नया भरोसेमंद टेस्ट ओपनर बल्लेबाज भी मिला। इसमें कोई शक नहीं कि रोहित की इन पारियों ने क्रिकेट फैंस का दिल जीत लिया और उनमें सबको उम्मीद की नई झलक भी मिली पर इन सब बातों के बीच रोहित ने भारतीय टेस्ट क्रिकेट का एक बेहद शर्मनाक रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया जो अब तक किसी के नाम पर नहीं था।

रोहित ने बनाया टेस्ट क्रिकेट में ये शर्मनाक रिकॉर्ड

रोहित शर्मा ने बतौर ओपनर टेस्ट क्रिकेट की दोनों पारियों में शतक लगाकर जहां रिकॉर्ड्स की बौछार कर दी तो वहीं अपने पहले ही टेस्ट में ओपनर के तौर पर उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में वो शर्मनाक रिकॉर्ड अपने नाम किया जो किसी के नाम पर नहीं था। रोहित शर्मा अब भारतीय टेस्ट क्रिकेट के पहले ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं जो किसी भी टेस्ट मैच की दोनों पारियों में स्टंप आउट हुए। रोहित से पहले अब तक अन्य कोई भी भारतीय बल्लेबाज किसी भी टेस्ट मैच की दोनों पारियों में स्टंप आउट नहीं हुआ था। इससे पहले फर्स्ट क्लास क्रिकेट के 137 पारियों में रोहित कभी भी स्टंप आउट नहीं हुए थे।

रोहित शर्मा ने पहले टेस्ट मैच में साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहली पारी में 244 गेंदों का सामना करते हुए 176 रन बनाए। रोहित ने अपनी इस पारी में कुल 23 चौके व 6 छक्के लगाए। पहली पारी में वो दोहरे शतक की तरफ बढ़ की रहे थे कि स्पिनर केशव महाराज की गेंद पर वो क्विंटन डि कॉक के हाथों स्टंप आउट हुए। वहीं दूसरी पारी में भी बिल्कुल ऐसा ही हुआ। मैच की दूसरी पारी में 127 रन बनाकर बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे रोहित केशव महाराज की गेंद पर क्रीज से बाहर आ गए और क्विंटन डि कॉक ने फिर से उन्हें स्टंप आउट कर दिया। रोहित ने दूसरी पारी में 149 गेंदों पर 10 चौके और 7 छक्के की मदद से 127 रन बनाए। वैसे रोहित का दोनों पारियों में इस तरह से आउट होना उनकी हड़बड़ी को साफ दर्शाता है जिस पर उन्हें काबू पाना होगा। अगर वो ऐसा कर पाते हैं तो इससे भी बड़ी पारी आने वाले वक्त में टेस्ट क्रिकेट में खेल सकते हैं।