EBM News Hindi

मोदी के शपथ लेते ही ट्रंप ने पाकिस्तान के खिलाफ लिया एक और कड़ा फैसला

वॉशिंगटन। अमेरिका और पाकिस्‍तान के बीच जारी तनावपूर्ण रिश्‍तों में कमी आने के बजाय, ये दिन पर दिन और ज्‍यादा तनावपूर्ण होते जा रहे हैं। शुक्रवार को अमेरिका ने ऐलान किया है कि उसकी तरफ से पाकिस्‍तानी डिप्‍लोमैट्स को दी हुई टैक्‍स छूट को अब खत्‍म किया जा रहा है। व्‍हाइट हाउस की ओर से आए इस ऐलान के बाद इस्‍लामाबाद और वॉशिंगटन के बीच दूरी और बढ़ गई है।अमेरिका और पाकिस्‍तान के बीच जनवरी 2018 से ही रिश्‍ते खराब है।
अमेरिका की ओर से यह कदम तब उठाया गया है जब उसने पहले ही वॉशिंगटन में तैनात पाकिस्‍तानी डिप्‍लोमैट्स पर बिना मंजूरी के 40 किलोमीटर के दायरे के बाहर सफर करने पर बैन लगा दिया है। अमेरिका के नए ऐलान के बाद वॉशिंगटन स्थित पाकिस्‍तानी दूतावास में 20 सदस्‍यों ने शुक्रवार को तुरंत ही अपने टैक्‍स एग्‍जेम्‍पशन कार्ड्स अमेरिकी अथॉरिटीज में जमा करा दिए। यह बात गौर करने वाली है कि पाकिस्‍तान की तरफ से इस्‍लामाबाद में काम करने वाले अमेरिकी डिप्‍लोमैट्स को इस तरह की कोई छूट नहीं दी गई है। यह हालत तब है जब अमेरिकी डिप्‍लोमैट्स ने पिछले वर्ष इस छूट के लिए आवेदन दिए थे।
डिप्‍लोमैट्स को टैक्‍स छूट से जुड़े जो कार्ड्स जारी होते हैं, उसके बाद उन्‍हें अमेरिका या इसके सीमा क्षेत्रों वाले इलाकों में सेल्‍स जैसे कई प्रकार के टैक्‍सेज में रियायत मिलती है। गुरुवार को अमेरिका में स्थित पाकिस्‍तानी दूतावास की ओर से कहा गया कि दोनों देशों के बीच इस पर बातचीत जारी है और इस मुद्दे को जल्‍द ही सुलझा लिया जाएगा। दूतावास की ओर से जारी बयान में कहा गया है, ‘पाकिस्‍तान और अमेरिका के बीच छूट और अदायगी के स्‍टेटस पर बातचीत जारी है। इस वार्ता को पारस्पिरिक आदान-प्रदान के सिद्धांत पर सुलझाने की कोशिश की जा रही है जिसे किसी तरह की सुविधा को खत्‍म या वापस लेने के आधार पर नहीं होना चाहिए।’
अमेरिका और पाकिस्‍तान के बीच जनवरी 2018 से ही रिश्‍ते खराब है जब अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने 1.3 बिलियन डॉलर की रकम पाकिस्‍तान को देने पर रोक लगा दी थी। पाकिस्‍तान को यह रकम सुरक्षा की मदद के तौर पर दी जाती थी। अमेरिका ने पिछले वर्ष मई में पाक राजनयिकों के मूवमेंट को सीमित कर दिया था। इस नए आदेश के बाद पाक डिप्‍लोमैट्स जिस शहर में पोस्टेड हैं उसके 40 किलोमीटर के दायरे में ही कहीं आ जा सकते थे। अमेरिका ने इस प्रतिबंध को 10 दिन के लिए टाला था, क्योंकि उस समय भी दोनों देशों के बीच बातचीत जारी थी।
अमेरिका ने इस वर्ष मार्च में पाकिस्‍तान को एक और बड़ा झटका दिया जब उसने अपनी वीजा नीति को खासतौर पर पाकिस्‍तानियों के लिए बदला। अमेरिकी दूतावास की ओर से बताया गया कि अमेरिका की ओर से अलग-अलग श्रेणियों में पाकिस्‍तानियों के लिए वीजा नीति बदली गई है। इस नीति में जो बात सबसे अहम थी वह थी कि पाक पत्रकारों की वीजा अवधि को घटाकर तीन माह का ही कर दिया गया था। सिर्फ इतना ही नहीं वीजा की फीस भी अमेरिका ने बढ़ा दी थी। पहले जहां वीजा फीस 160 अमेरिकी डॉलर थी अब 21 जनवरी 2019 से फीस 192 अमेरिकी डॉलर हो गई है।