EBM News Hindi

मटके का पानी पीने से पुरुषों का बढ़ता है हार्मोन, जाने कैसे रखे इसमें पानी ठंडा

गांवों में आज भी गर्मियों में गले को तर करने के ल‍िए मटके का पानी का इस्‍तेमाल किया जाता है। कहते हैं मटके का पानी स्वाद में काफी अच्छा होता है. सोंधी-सोंधी महक के साथ मटके का पानी स्वास्थ्य के लिए भी काफी फायदेमंद माना जाता है। आयुर्वेद में भी मिट्टी के घड़े का पानी पीना का महत्‍व बताया गया है।

बड़े-बुजुर्ग भी हमेशा मटके का पानी पीने की ही सलाह देते हैं। गर्मी के मौसम में मटके का पानी जितना ठंडा और सुकूनदायक लगता है, स्वास्थ्य के लिए भी उतना ही फायदेमंद भी होता है। अगर आप नहीं जानते तो जरूर जान लीजिए मटके का पानी पीने के यह बेशकीमती फायदे -मटके का पानी पीने से मेल हार्मोन (टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन) का स्तर काफी बढ़ता है। अगर आप रोजाना मटके का पानी पीते हैं, तो आपके अंदर रोग प्रतिरोधक की क्षमता बढ़ेगी।

मटके के पानी में अलकलाइन के गुण मौजूद होते हैं, जिसकी वजह से हमारे शरीर का PH बैलेंस रहता है। इसके साथ ही ये हमारी सेहत के लिए काफी बेहतर माना जाता है। मटके का पानी रोजाना पीने से कब्ज, पेट में जलन और एसिडिटी की समस्या दूर होती है। इसके अलावा इसे पीने से गला भी खराब नहीं होता है।

इसमें मृदा के गुण भी होते हैं जो पानी की अशुद्ध‍ियों को दूर करते हैं और लाभकारी मिनरल्स प्रदान करते हैं। शरीर को विषैले तत्वों से मुक्त कर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहती बनाने में यह पानी फायदेमंद होता है।

मिट्टी के घड़े का पानी का तापमान सामान्य से थोड़ा ही कम होता है जो ठंडक तो देता ही है, चयापचय या पाचन की क्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है।

– अगर आप मटका लेने जा रहे हैं तो ध्यान रखें कि मटका पूरी तरह से पका हुआ हो, कहीं से भी चटका हुआ न हो।

– जब आप मटका लेकर आएं तो उसे एक बार ठंडे पानी में भिगो लें, लेकिन अंदर से हाथ डालकर मटका बिल्कुल न धोएं।

– मटके में पानी भरने से पहले आप जूट की बोरी या फिर मोटा कपड़ा गीला कर इसके चारों तरफ लपेट लें। फिर उसमें पानी भरें। इससे मटके का पानी ज्याद देर तक ठंडा रहेगा।

– मटके को किसी छायादार जगह पर ही रखें ताकि उसका पानी पूरे दिन ठंडा ही रह सके।