EBM News Hindi

बाइडन को मिली अमेरिकी राष्ट्रपति को सीक्रेट सूचना देने वाली किताब प्रेसिडेंटस डेली ब्रीफ

विलमिंगटन। डोनाल्‍ड ट्रंप ने भले ही जो बाइडन को अमेरिका का अगला राष्‍ट्रपति अभी तक स्‍वीकार न किया हो, लेकिन बाइडन को धीरे-धीरे राष्‍ट्रपति के अधिकार दिए जा रहे हैं। अमेरिका के नर्वनिर्वाचित राष्ट्रपति के रूप में बाइडन को सोमवार को पहली बार प्रेसिडेंट्स डेली ब्रीफ देखने को मिली। बता दें कि ट्रंप द्वारा चुनाव परिणाम को विभिन्न अदालतों में चुनौती दिए जाने के कारण बाइडन और कमला हैरिस को यह किताब काफी देर से मिली है। ट्रंप अब भी यह मानने को स्‍वीकार नहीं है कि वह चुनाव हार चुके हैं।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति देते रहे हैं अलग-अलग नाम

इस ब्रीफ के बारे में एक दिलचस्‍प बात यह है कि ज्‍यादातर अमेरिकी राष्‍ट्रपति इसे अलग-अलग नामों से संबोधित करते रहे हैं। अमेरिकी खुफिया विभाग और दुनिया भर से प्राप्त सूचनाओं वाली इस किताब को देश की पूर्व प्रथम महिला मिशेल ओबामा ‘मौत, विध्वंस और भयावह बातों की किताब’ कहती थीं। ऐसा नहीं है कि बाइडन पहली बार इस किताब को देख रहे हैं, इससे पहले ओबामा प्रशासन को सत्ता हस्तांतरण के दौरान बतौर उपराष्ट्रपति उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश की किताब देखने मौका मिला था। साथ ही बराक ओबामा के राष्ट्रपति रहते हुए आठ साल तक वह इस किताब को पढ़ते रहे हैं।

राष्‍ट्रपति के हिसाब से किया जाता है किताब को तैयार

अमेरिका के प्रत्येक राष्ट्रपति के हिसाब से इस किताब को तैयार किया जाता है। इसमें उनकी प्राथमिकता के हिसाब से सूचनाओं का संकलन किया जाता है। ओबामा प्रशासन के बाद चार साल के अंतराल पर फिर से बाइडन को इस किताब को पढ़ने का मौका मिल रहा है और वह फिलहाल राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की किताब पढ़ रहे हैं। ‘प्रेसिडेंट्स डेली ब्रीफ’ का इतिहास ‘ए प्रेसिडेंट्स बुक ऑफ सीक्रेट्स’ के लेखक डेविस प्रीस का कहना है कि किताब तैयार करने वाले निश्चित रूप से बाइडन से पूछेंगे कि वह सूचनाओं को किस तरीके और फॉर्मैट में देखना/पाना चाहते हैं।