EBM News Hindi

बगदादी मारा गया, अमेरिका में खुशी की लहर, अस्थिर और अशांत रहा मध्‍य एशिया

0

नई दिल्‍ली । साल 2019 जाने को है। इस साल आईएस के पूर्व प्रमुख अबु बक्र अल-बग़दादी की मौत ने पूरी दुनिया का ध्‍यान इस ओर आकृ‍ष्‍ट किया। पूरा मध्‍य एशिया अशांत और अस्थिर रहा। इसी तरह से अतंरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर घटित कुछ घटनाएं मीडिया की सुर्खियों में रही। मध्‍य एशिया में कई मुल्‍कों में राजनीतिक अस्थिरता देखी गई। 23 सितंबर 2019 का दिन भारत के लिए एक ऐतिहासित रहा। अमेरिका में हउदी मोदी शो ने भारत के‍ लिए गौरव का क्षण रहा। देश के इतिहास में यह पहला मौका है कि जब दुनिया के दो बड़े देशों के प्रधान एक साथ लोगों को संबोधित किए। आइए, हम आपको सालभर की प्रमुख अंतरराष्‍ट्रीय घटनाओं से रूबरू कराते हैं।

1- मध्‍य एशिया में राजनीतिक अस्थिरता

पूरे साल मध्‍य एशिया में राजनीतिक अस्थिरता और उपद्रव देखेने को मिला। इस्‍लामिक स्‍टेट भी सुर्खियों में रहा। अमरीकी सेना ने इस्लामिक स्टेट समूह के ख़िलाफ़ जबरदस्‍त ऑपरेशन चलाया। अक्‍टूबर, 2019 में उत्‍तरी सीरिया से अमेरिकी सेना के हटाए जाने के एलान किया।

तुर्की ने उत्तरी सीरिया में संघर्ष विराम लागू करने की अमरीका का मांग को ठुकराया और कुर्दो पर हमला जारी रखा। उत्‍तर सीरिया में कुर्दो पर हमले को लेकर अमेरिका और तुर्की आमने-सामने हुए। तुर्की अपनी सीमा से लगने वाले सीरियाई हिस्से से कुर्द लड़ाकों को हटा कर वहां 32 किलोमीटर तक का एक “सेफ़ ज़ोन” बनाना चाहता है, जहां बीस लाख सीरियाई शरणार्थियों को फिर से बसाना चाहता है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और तुर्की के तुर्की राष्‍ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन के बीच 10-सूत्री समझौते पर हस्ताक्षर हुए।