EBM News Hindi

दिवाली के बाद का हाल : दिल्ली में जहरीली हुई हवा, मुंबई में सांस लेना रहा आसान

मुंबई/नई दिल्ली, एएनआइ। दिवाली के अवसर पर रविवार शाम दिल्ली-एनसीआर के लोगों न जमकर आतिशबाजी की। इसका असर सोमवार सुबह दिल्ली की आबो-हवा पर दिखा। जहरीले धुंए और धूल के कणों ने यहां की हवा को अपने कब्जे में ले लिया। वहीं दूसरी ओर आर्थिक राजधानी मुंबई में प्रदूषण कम दिखा और यहां लोगों को सांस लेने में दिक्कत नहीं हुई।

दिल्ली में हर सांस जहरीली

चलिए जानते हैं दिवाली के बाद दिल्ली की हवा का क्या हाल है। दिल्ली और नोएडा में हर सांस जहरीली है क्योंकि यहां सोमवार सुबह हवा में पॉल्यूटेंट (प्रदूषण कारक तत्व) का स्तर 306 और 356 रहा। वैसे बता दें कि पहले से ही माना जा रहा था कि दिवाली की अगली सुबह दिल्ली-NCR की हवा सांस लेने लायक नहीं होगी और यह खतरनाक स्तर तक पहुंच सकती है।

 

दूसरे कारण भी हैं प्रदूषण के

दिल्ली की हवा में प्रदूषक तत्वों की भरमार है, लेकिन ऐसा नहीं है कि यह सब पटाखों की वजह से ही है। आसपास के इलाकों में पराली का जलना, वाहनों से निकलने वाला धुआं और विनिर्माण कार्यों से हवा में फैलने वाले धूल के कण भी यहां की हवा को प्रदूषित करते हैं।

एयर क्वालिटी इंडेक्स डाटा की बात करें तो मुंबई के हाजी अली इलाके में पीएम 2.5 सिर्फ 32 और पीएम 10 भी 43 के स्तर पर रहा। बता दें कि यह स्तर सांस लेने के लिए अच्छी कैटेगरी में माना जाता है। हवा की क्वालिटी को इस तरह से समझा जा सकता है। हवा में पॉल्यूटेंट 1 से 100 तक स्तर को सांस लेने के लिए अच्छा माना जाता है, जबकि 101 से 200 तक मोड्रेट और 201 से 300 तक के स्तर को खराब माना जाता है। 301 से 400 तक बहुत खराब और 401 से ऊपर के स्तर को खतरनाक की श्रेणी में रखा जाता है।