EBM News Hindi

दिग्गज फार्मूला वन रेसर निकी लौडा का 70 साल की उम्र में निधन

नई दिल्ली। दिग्गज फॉर्मूला एफ1 चैंपियन निकी लौडा का 70 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। उनके परिवार ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि सोमवार की रात में निकी का निधन हो गया। आठ महीने पहले निकी के गुर्दे का प्रत्यर्पण कराया गया था। बता दें कि निकी का पूरा नाम एंड्रीस निकोलस निक्की लौडा था, और उनका जन्म ऑस्ट्रिया में हुआ था। निक्की ने विश्व स्तर के फॉर्मूला एफ1 रेसर थे। उन्होंने 1975, 1977, 1984 में एफ- वर्ल्ड ड्राइवर्स चैंपिंयन का खिताब जीता था। एक बार वह ऑस्ट्रियान फॉर्मूला वन ड्राइवर भी रह चुके हैं।
लौडा के ऊपर 2013 में दर्शनीय फिल्म रश (Rush) भी बनाई गई है। उनको अपने जीवन में दो बार गुर्दा प्रत्यर्पण से गुजरना पड़ा। दूसरी बार उनको किडनी उनकी 2005 के समय की प्रेमिका बिरजिट वेटजिंगर ने दी थी। बाद ने इन दोनों ने 2008 में शादी कर ली थी। इस शादी से दंपति को 2009 में जुड़वा बच्चे हुए थे जिनमें एक लड़की और एक लड़का था। इससे पहले की रिलेशनशिप के तहत भी लौडा के तीन अन्य बेटे हैं। समलैंगिक रिश्ते में हैं देश की सबसे तेज धावक, ‘रिलेशनशिप’ में होने पर किया बड़ा खुलासा निकी ने दो बार फरारी और एक बार मैकलारेन के साथ फॉर्मूला एफ1 चैंपियनशिप जीती थी। 1976 मे उनका बड़ा हादसा हुआ था, लेकिन इसके बाद भी उन्होंने जबरदस्त वापसी की और अपनी काबिलियत का लोहा मनवाया। उन्होंने कुल 171 रेस में हिस्सा लिया था और उसमे से 25 में जीत दर्ज की थी। उन्होंने खुद का एयरलाइंस का बिजनेस किया और एफ1 मैनेजमेंट में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी की भूमिका निभाई थी। 2012 से वह मर्सिडीज के नॉन एग्जेक्युटिव चेयरमैन थे और उन्हें लुईस हैमिल्टन को टीम में लाने में सफलता हासिल की थी।