EBM News Hindi

तरबूज की मिठास पर ना जाएं, इन तरीकों से जानें कहीं आप इंजेक्‍शन वाला तरबूज तो नहीं खा रहे हैं?

गर्मी का मौसम है तो इस मौसम में मौसमी फलों का सेवन करके हम कई बीमार‍ियों से बच सकते हैं। इस मौसम में हीट स्‍ट्रोक और डिहाइड्रेशन से बचाव के ल‍िए ज्‍यादात्तर लोग तरबूज और वाटर कंटेट फलों का सेवन करते हैं। गर्मियों में कुछ ऐसे फल भी हैं तो पानी की कमी को दूर करते हैं। इन्‍हीं फलों में से एक है, तरबूज।

गर्मी में मिलने वाला ऐसा फल है जिसमें विटामिन A 11%, विटामिन C 13%, कैल्शियम , आयरन 1%, विटामिन D, विटामिन B6 और मैग्नीशियम पाया जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि तरबूज की हर बाईट में 94 प्रतिशत पानी और 6 प्रतिशत शुगर होता है। लेकिन कहीं आप फ्रेश दिखने और मीठे तरबूज खाने के चक्‍कर में कहीं आप नकली और नुकसान पहुंचाने वाला तरबूज तो नहीं खा रहे।एक रिपोर्ट के अनुसार तरबूज का रंग बढ़ाने और टेस्ट बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला केमिकल आपकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। आजकल सिर्फ तरबूज में नहीं बल्कि हर तरह के फल और सब्जियों को इंजेक्शन के जरिए नकली तरीके से पकाए जाने के मामले सामने आ रहे हैं।

तरबूज गर्मियों में बहुत लोगों का पसंदीदा फल होता है। आइए जानते है कि कैसे आप इंजेक्शन वाले तरबूज की पहचान कर सकते हैं। ऐसे करें इंजेक्टेड तरबूज की पहचान -तरबूज के अंदर के एक टुकड़े को काट कर एक पानी के बर्तन में डालिए और थोड़ी देर के लिए छोड़ दीजिए। नकली तरीके से लाल किए गए तरबूज को पानी में डालने से पानी का रंग हल्का गुलाबी या लाल हो जाएगा।