EBM News Hindi

झारखंड के इस बाजार में छठ व्रती को आधी कीमत पर मिलती है सामग्री, कारोबारी-थानेदार से लेकर वकील-शिक्षक तक करते हैं सहयोग

हजारीबाग। झारखंड के हजारीबाग जिले के कुछ युवाओं ने छह साल पहले एक अनोखी शुरुआत की थी। उन्होंने छठ महापर्व पर लोगों से चंदा इकट्ठा कर कुछ पैसे जमा किए और इससे उन्होंने फल और अन्य पूजा सामग्री खरीदी। इसके बाद एक बाजार विकसित किया। इस बाजार में छठ व्रती महिलाओं और पुरुषों को आधे दाम पर पूजा सामग्री उपलब्ध कराई।

यह सिलसिला चल पड़ा और इस पहल के छठे वर्ष में समिति से अब 30 से 40 स्थायी और 120 लोग अस्थायी रूप से जुड़ चुके हैं। इसमें आधे राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (आरएसएस) के स्वयंसेवक, शिक्षक और समाज के अन्य तबके के लोग शामिल हैं। इस वर्ष समिति ने 50 लाख रुपये चंदा किया है‌। इससे फल व अन्य पूजा सामग्री खरीद कर छठ व्रतियों को उपलब्ध कराया जाएगा। इस बाजार की खास बात यह है कि छठ व्रतियों के बीच सामानों की बिक्री के बाद बची हुई चंदे की राशि दान दाता लोगों में लौटा दी जाती है।

समिति को विधायक, थानेदार, कारोबारी से लेकर सामाजिक कार्यकर्ता, सामान्य लोग और संपन्न लोग चंदा देते हैं। चंदा की राशि 251 रुपये से लेकर एक लाख तक की है। जब इस अनूठी पहल की शुरुआत हुई थी तो 1.80 लाख रुपये चंदा हुआ था। इसके बाद 2015 में चार लाख, 2016 में 9 लाख, 2017 में 13 लाख, 2018 में 19.5 लाख रुपये चंदा हुआ। 2019 में 30 लाख और इस साल यह 35 लाख रुपये तक पहुंच गया है। यह अपने आप में एक अनूठा सामुदायिक बाजार व्यवस्था है, जो लोगों को आकर्षित करता है।