EBM News Hindi

जयपुर: रेप पीड़िता ने जब बर्बरता की सुनाई दास्तान तो उड़े सबके होश, कांस्टेबल गिरफ्तार

जयपुर से करीब 20 किलोमीटर दूर कानोता के जंगल में नग्न और जख्मी हालात में मिली 27 वर्षीय युवती को एसएमएस अस्पताल से छुट्टी मिल गई है. उस युवती को लेकर पुलिस जंगल में पहुंची थी ताकि घटनास्थल का नक्शा बना सके. पुलिस ने घटनास्थल पर उस युवती से जानकारी ली. जब युवती ने अपने साथ हुई बर्बरता की कहानी सुनाई तो सबके होश उड़ गए.

युवती के अनुसार, वर्ष 2018 में उसने ज्योति नगर थाने में कांस्टेबल कपिल शर्मा के खिलाफ बलात्कार और जानलेवा हमला करने का मामला दर्ज कराया था. इस साल उसकी दीपेश चतुर्वेदी नाम के एक आदमी हुई. दीपेश ने अपना परिचय सचिवालय स्थित मानवाधिकार आयोग के उपनिदेशक के रूप में दिया. कपिल को गिरफ्तार कराने का आश्वासन देकर दीपेश ने उससे 45 हजार रुपए ले लिए. जब वह सचिवालय गई तो मानवाधिकार आयोग में दीपेश नाम का कोई आदमी नहीं मिला.

गत मंगलवार की रात 9.15 बजे वह प्रेम नगर स्थित दीपेश के घर पहुंची. वहां दीपेश के परिजनों को दीपेश से हुई बातचीत की रिकॉडिंग सुना रही थी, तभी पीछे से किसी ने सिर में जोर से मारा. होश आया तो वह एक कमरे में बंद थी. वहां पर दीपेश, कपिल और दो अन्य युवक थे.

युवती के अनुसार उन लोगों वीडियो कॉल के जरिए डॉक्टर अनुराग शर्मा से बात की और कहा कि इसको सबक सिखा दिया है. युवती ने कहा कि सिगरेट से उसके इंटरनल पार्ट को दागा गया था. उसमें इंजेक्शन लगाकर रखा था. जगह-जगह ब्लेड से चीरा लगाया था. उसके बाद भी सबने उसके साथ फिर मारपीट की. इससे बेहोश हो गई. होश आया तो वह जंगल में पड़ी थी. उसके मुंह में कपड़ा ठूंसकर टेप लगा रखा था और हाथ-पैर बंधे थे.