EBM News Hindi

चार वकीलों को कर्नाटक हाईकोर्ट में जज बनाने की सरकार की आपत्ति को कोलेजियम ने ठुकराया

नई दिल्ली, प्रेट्र। चार वकीलों को प्रोन्नति देने पर सरकार की आपत्ति को सुप्रीम कोर्ट के कोलेजियम ने शुक्रवार को खारिज कर दिया है। अब कोलेजियम ने इन्हीं चार नामों की कर्नाटक हाईकोर्ट में बतौर जज नियुक्ति के लिए फिर से सिफारिश की है।

आइबी रिपोर्ट का हवाला

कोलेजियम की अध्यक्षता कर रहे देश के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने इंटेलिजेंस ब्यूरो (आइबी) की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि उसकी रिपोर्ट में लिखा है कि इन लोगों की निजी और व्यावसायिक छवि बहुत अच्छी है। साथ ही इन चारों वकीलों के खिलाफ कुछ भी देखने को नहीं मिला है। जिन चार वकीलों के नामों की सिफारिश की गई है, उनके नाम हैं-सवानूर विश्वजीत शेट्टी, मरालुर इंद्रकुमार अरुण, मुहम्मद गौस शुकुरे कमल और एंगलागुप्पे सीतारमैया इंद्रेश।

शेट्टी का नाम न्याय विभाग ने पुनर्विचार के लिए कोलेजियम के पास भेजा था। सवानूर विश्वजीत शेट्टी के खिलाफ एक शिकायत दर्ज है। इसमें बताया गया है कि उनका अंडरव‌र्ल्ड और भूमाफियों से संबंध है। यह गिरोह फिरौती की रकम वसूलने का काम करता है।

हालांकि कोलेजियम ने कहा कि शिकायत से संबंधित आरोपों की पुष्टि नहीं की जा सकती है। उन्होंने कहा कि सभी परामर्शदाता जजों ने उन्हें चयन के लिए उपयुक्त पाया है। कोलेजियम में चीफ जस्टिस गोगोई के अलावा, जस्टिस एसए बोबडे और एनवी रमन्ना भी शामिल हैं।

न्याय विभाग ने अरुण का नाम कोलेजियम के पास वापस भेजते हुए कहा कि उनके खिलाफ शिकायत दर्ज है। उनका प्रोफेशनल कैरियर साफ और पारदर्शी नहीं रहा है। वह कई भ्रष्ट आचरणों में लिप्त रहें हैं। इसीतरह कमल का नाम भी न्याय विभाग ने विचार करने के लिए कोलेजियम को वापस लौटा दिया था।