EBM News Hindi

क्या है SLED, realme ने कैसे इस टेक्नोलॉजी की मदद से TV इंडस्ट्रीज को दिया एक नया रूप

नई दिल्ली स्मार्टफोन ने इंसान के जीवन को पूरी तरह से बदल दिया है। काम करना हो या फिर खुद को एंटरटेन करना हो, ज्ञान लेना हो या फिर कुछ खरीदारी करनी हो स्मार्टफोन ने हर चीज को आसान बना दिया है। आज बाजार में लेटेस्ट टेक्नोलॉजी के साथ तरह-तरह के स्मार्टफोन्स उपलब्ध हैं। लेकिन ऐसा नहीं है कि बीते एक दशक में केवल स्मार्टफोन ने ही टेक्नोलॉजी के मामले में विस्तार देखा है और इंडस्ट्रीज भी टेक्नोलॉजी के मामले में एडवांस हो चुकी हैं। TV इंडस्ट्रीज भी उनमें से एक है। शुरुआत में हमने ब्लैक एंड व्हाइट और उसके बाद रंगीन TV का दौर देखा। धीरे-धीरे TV का डिजाइन और उसका डिस्प्ले बदलता गया। पिछले एक दशक में अलग-अलग तरह की टेक्नोलॉजी ने लोगों के TV व्यू एक्सपीरियंस को ही पूरी तरह से बदल दिया है।

बाजार में कौन-कौन से TV उपलब्ध हैं – LED, QLED, OLED  

QLED (Quantum dot LED)- यह टेक्नोलॉजी LED से थोड़ा एडवांस है।  इसमें स्क्रीन और एमिटिंग डायोड के बीच में क्वांटम डॉट कलर पैनल या फिल्टर दिया जाता है, जिससे TV पर अच्छे कलर देखने को मिलते हैं। यह टेक्नोलॉजी बैकलाइट को बेहतर बनाने के लिए फॉस्फोरसेंट क्रिस्टल का उपयोग करती है।
OLED (Organic Light Emitting Diodes)- यह बहुत ही महंगी और एडवांस टेक्नोलॉजी है। इस टेक्नोलॉजी को आप आजकल स्मार्टफोन में भी देखते हैं। इसमें हर एक पिक्सल की अपनी लाइटिंग होती है। मतलब जो कलर आपको दिखाना है, वही कलर आपको दिखेगा, जिसकी वजह से व्यू एक्सपीरियंस काफी अच्छा हो जाता है। साथ ही, TV काफी  पतला हो जाता है और पॉवर की भी खपत कम हो जाती है।

SLED के पीछे कौन सी है टेक्नोलॉजी 

SLED डिस्प्ले RGB बैकलाइट टेक्नोलॉजी पर आधारित है। स्वभाव में व्हाइट लाइट RGB प्राइमरी कलर द्वारा निर्मित होता है, जो लाल, हरा और नीला है। इसी के आधार पर विकसित किया गया SLED डिस्प्ले SPD टेक्नोलॉजी के साथ अधिक नेचुरल व्यू एक्सपीरियंस देता है। जबकि QLED सहित अधिकांश LED TV केवल ब्लू बैकलाइट का उपयोग करते हैं, जो बाद में सफेद रंग में बदल जाता है। SLED शुरुआत में लाल, हरे और नीले LED लाइट का उपयोग करता है, इसलिए ब्लू लाइट के हानिकारक प्रभावों को कम करता है और अच्छे कलर प्रदान करता है।  इस प्रकार SLED, QLED की तुलना में अधिक वाइड कलर गमुट देता है और आंखों को सुरक्षा भी।