EBM News Hindi

किस्सा खेल का- जब 1996 वर्ल्ड कप में दर्शकों ने स्टेडियम में लगा दी आग

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट फैंस की उम्मीदें फिर से जाग उठी हैं कि इस बार ‘विराट सेना’ के राज में टीम आईसीसी विश्व कप 2019 का खिताब अपने नाम करे। अभी तक कपिल देव(1983) और महेंद्र सिंह धोनी(2011) ने अपनी कप्तानी में भारतीय टीम को खिताब दिलाया। लेकिन इस बार बारी विराट कोहली की, जिनके कंधों पर खिताब दिलाने की जिम्मेदारी है। अगर टीम कहीं चूक जाती है तो दर्शकों की नाराजगी भी देखने को मिलती है। भारत को अपना पहला मैच 5 जून को साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेलना है पर इससे पहले टीम वाॅर्म-अप मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ चारों खाने चित्त होती दिखी। टीम ने अपने चाहने वालों को चिंता में डाल दिया कि कहीं तेज पिचों पर फिर वही हाल ना हो जो पहले हुआ करता था। भारत कोई मैच जीतता है तो फैंस जश्न मनाने का माैका नहीं छोड़ते, लेकिन विश्व कप में एक बार ऐसा समय भी देखने को मिला था जब भारतीय टीम हारी तो नाराज फैंस ने स्टेडियम में आग लगा दी थी।
यह वाक्या देखने को मिला था 1996 के विश्व कप में। 13 मार्च को भारत-श्रीलंका के बीच यह सेमीफाइनल मुकाबला कोलकाता के ईडन गार्डन में हुआ। भारत ने टाॅस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का निर्णय लिया। भारतीय टीम की कमान थी मोहम्मद अजहरुद्दीन के हाथों में। श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत के सामने 8 विकेट पर 252 रनों का लक्ष्य रखा। फैंस को उम्मीदें थीं कि 1983 वर्ल्ड कप का खिताब जीतने वाली भारतीय टीम श्रीलंका को हराएगी, लेकिन सब इसके उलट हुआ। 252 रनों का लक्ष्य करने उतरी भारतीय टीम ने पहला विकेट टीम के 8 स्कोर पर नवजोत सिद्धू के रूप में गिरा। उसके बाद सचिन तेंदुलकर और संजय मांजरेकर ने टीम का स्कोर आगे बढ़ाया, लेकिन जैसे ही सचिन 65 रन बनाकर आउट हुए उसके बाद भारतीय टीम ताश के पत्तों की तरह बिखरने लगी।