EBM News Hindi

कश्मीर रवाना हुआ दल, अनुच्छेद 370 हटने के बाद हालात का लेगा जायजा

नई दिल्ली/श्रीनगर, एएनआइ। यूरोपीय यूनियन (EU) सांसदों का एक दल मंगलवार को जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दौरे पर जा रहा है। यह दल मंगलवार सुबह होटल के निकलकर दिल्ली एयरपोर्ट के लिए रवाना हुआ। यह दल अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेशों में बांटे गए जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के हालात का जायजा लेगा।

राज्य में हालात तेजी से सुधर रहे हैं, लेकिन पड़ोसी देश पाकिस्तान अपनी ओछी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। वह कश्मीर को लेकर रोज नए-नए झूठ फैलाकर दुनिया को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है। यूरोपीय यूनियन सांसदों का दल पाकिस्तान की झूठी अफवाहों का भांडाफोड़ करेगा।

भारत दौरे पर आए यूरोपीय यूनियन के 28 सांसदों को सरकार ने कश्मीर जाने की इजाजत दी है, लेकिन बता दें कि यह EU का कोई आधिकारिक दल नहीं है। इन सांसदों के दल ने सोमवार को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल से अलग-अलग मुलाकात की। पीएम मोदी ने ईयू सांसदों को अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने बताया कि किन परिस्थितियों में यह फैसला लिया गया और किस तरह सीमा पार से चल रही आतंकवादी गतिविधियों से निपटने के लिए यह जरूरी कदम था।

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दौरे पर जाने वाले यूरोपीय यूनियन के सांसदों में छह पोलैंड और फ्रांस से 6-6, ब्रिटेन के पांच, इटली की चार, जर्मनी के दो और चेक गणराज्य, बेल्जियम, स्पेन व स्लोवाकिया के एक-एक सांसद हैं। अनुच्छेद 370 हटाए जाने के फैसले के बाद पहली बार किसी भी विदेशी दल को वहां जाने की इजाजत मिली है।

वेल्स से यूरोपीय संसद के सदस्य नाथन गिल ने एयरपोर्ट जाते हुए एएनआइ से बात करते हुए कहा, ‘यह हमारे लिए एक अच्छा अवसर है कि हम विदेशी दल के रूप में कश्मीर जाएं और वहां पर जो कुछ हो रहा है उसे अपनी आंखों से देखें।’