EBM News Hindi

उबल रही है दिल्ली, ‘मई 2013’ के बाद ‘मई 2019’ में दर्ज किया गया अधिकतम तापमान

नई दिल्ली। इस वक्त पूरा उत्तर भारत गर्मी की चपेट में है, चिलचिलाती धूप में लोगों को मजबूरन काम के लिए बाहर निकलना पड़ रहा है, उत्तर से लेकर दक्षिण तक चारों ओर गर्मी की चुभन है, गुरुवार को राजधानी दिल्ली में भीषण गर्मी का कहर देखने को मिला, पालम वेधशाला ने 46.8 डिग्री सेल्सियस अधिकतम तापमान दर्ज किया, 2013 मई के बाद मई 2019 महीने में दर्ज किया गया यह अधिकतम तापमान है, पालम वेधशाला ने मई 2013 में 47.2 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया था, अभी तक मई महीने में 26 मई 1998 को सबसे ज्यादा अधिकतम तापमान 48.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

इससे पहले भी मौसम विभाग ने महाराष्ट्र के विदर्भ और मराठवाड़ा क्षेत्र में अगले 3 दिनों तक हीट वेव की चेतावनी जारी की थी, इन क्षेत्रों के अधिकांश स्थानों में तापमान 46 डिग्री सेल्सियस से ऊपर रहने की संभावना है। मौसम विभाग ने लोगों को दोपहर के समय देखभाल करने और बाहर जाने से बचने की सलाह दी है।

विभाग ने कहा है कि अगले दो दिन में देशभर के कई शहरों में पारा 45 डिग्री के पार हो जाएगा, गर्मी अपने पूरे शबाब पर है और ऐसे में मौसम विभाग का कहना कि देश के कई राज्यों में पारा 45 डिग्री के पार जा सकता है। हिमाचल और उत्तराखंड भी गर्मी से अछूते नहीं हैं, ऊना, पांवटा साहिब व काला अंब में अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया।

IMD के मुताबिक, पूरे उत्तर भारत में फिलहाल बारिश की कोई संभावना नहीं है, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान में तापमान में इजाफा हो सकता है, वहीं, मौसम की जानकारी देने वाली एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक, दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र में दिन और रात के तापमान में बढ़ोतरी हो सकती है, अगले एक हफ्ते तक बारिश के कोई आसार नहीं हैं।

हालांकि दक्षिण भारत के कई शहरों में आज बारिश हो सकती है, कर्नाटक के दक्षिणी आंतरिक हिस्सों और मंगलवार-बुधवार को तमिलनाडु एवं पुडुचेरी के कुछ हिस्सों में भारी बारिश हो सकती है।आज तमिलनाडु, केरल और आंतरिक कर्नाटक में हवाएं तेज चलेंगी। यहा हवाओं की गति 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे के हिसाब से होगी। इसके अलावा तेलंगाना में भी 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे के हिसाब से हवाएं चलेंगी।