EBM News Hindi

इमरान के गले की हड्डी बना गिलगित बाल्टिस्तान चुनाव, विरोध प्रदर्शनों के खौफ से लगाया रैलियों पर बैन

इस्‍लामाबाद। पाकिस्‍तान में विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री इमरान खान के आंखों की नींद हराम कर रखी हैं। विपक्षी दल आए दिन रैलियां आयोजित कर सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं। इसी बीच इमरान ने गिलगित बाल्टिस्तान में चुनाव कराकर अपने मुखलफत की बची खुची कसर भी पूरी कर ली है। गिलगित बाल्टिस्तान क्षेत्र के लोग इमरान खान के चुनाव कराने के फैसले का जमकर विरोध कर रहे हैं। गिलगित बाल्टिस्तान में सरकार विरोधी लहर से घबराए इमरान खान ने अब एक नया तिकड़म आजमाया है।

गिलगित बाल्टिस्तान क्षेत्र में चुनाव नतीजों पर बढ़ते विरोध के बीच इमरान ने सोमवार रैलियों और सभाओं पर प्रतिबंध लगाने का एलान कर दिया। इन प्रतिबंधों का असल मकसद भले ही जगजाहिर हो लेकिन इमरान खान की सरकार ने इसके पीछे कोरोना संक्रमण के फैलने का हवाला दिया है। कोरोना वायरस पर राष्ट्रीय समन्वय समिति (National Coordination Committee, NCC) की बैठक के बाद देश को संबोधित करते हुए इमरान ने गिलगित बाल्टिस्तान में चुनावों के दौरान सभाओं और रैलियों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की।

समाचार एजेंसी एएनआइ ने जीओ न्‍यू के हवाले से बताया है कि इमरान इस फैसले के पीछे कोरोना की दूसरी लहर का हवाला दिया। इमरान ने राष्‍ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा कि हमने COVID-19 की दूसरी लहर के बढ़ते मामलों की समीक्षा की… जिसे पूरी दुनिया में खास तौर पर यूरोप और अमेरिका में महसूस किया जा रहा है। इसी पर लगाम लगाने के लिए सभाओं और रैलियों पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है। इस बीच इमरान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (Pakistan Tehreek-e-Insaf, PTI) पर विपक्षी दलों ने चुनाव में धांधली का आरोप लगाया है।