EBM News Hindi

आखिर कौन होगा दिल्ली कांग्रेस का नया अध्यक्ष, सोनिया ने टाला फैसला; सस्पेंस बरकरार

नई दिल्ली । दिल्ली कांग्रेस का अध्यक्ष कौन होगा अभी भी सस्पेंस बरकरार है। शुक्रवार को होने वाले एलान को फिलहाल कुछ दिनों के लिए टाल दिया गया है। सूत्रों के मुताबिक दिल्ली कांग्रेस (Delhi Congress) के नए अध्यक्ष के लिए पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद (former cricketer kirti azad) के नाम पर सहमति बन चुकी है। लेकिन सोनिया गांधी के निर्देश पर औपचारिक घोषणा शुक्रवार को रोकी दी गई। संदीप दीक्षित प्रकरण में पार्टी आलाकमान को महसूस हुई बगावत की आशंका के बाद कांग्रेस ने ये फैसला लिया।

बता दें कि संदीप दीक्षित ने मां शीला दीक्षित की मौत के लिए दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कानूनी कार्रवाई की भी चेतावनी दी है। अटकलें लग रही हैं कि दिल्ली कांग्रेस में चल रही गुटबाजी को रोकने के लिए पार्टी प्रदेश के बाहर से किसी नेता को यह जिम्मेदारी सौंप सकती है। पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के निधन के बाद से यह पद खाली चल रहा है।

कीर्ति आजाद के नाम पर सोनिया ने लगाई मुहर

सूत्रों के अनुसार, शुक्रवार शाम दिल्ली प्रदेश प्रभारी पीसी चाको ने एक नोट तैयार करके पार्टी आलाकमान के पास साइन करने के लिए कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल के पास भेज दिया। बताया जा रहा है कि पीसी चाको के नोट में सिर्फ दो नाम थे। सबसे पहले कीर्ति आजाद और दूसरे नंबर पर सुभाष चोपड़ा का नाम था, लेकिन सोनिया गांधी ने कीर्ति आजाद के नाम पर मुहर लगाई।

दिल्ली के नेताओं ने किया विरोध

बताया जा रहा है कि कीर्ति आजाद का नाम फाइनल हो गया है। आजाद के नाम पर दिल्ली कांग्रेस के कई नेताओं ने आपत्ति जाहिर की है। कुछ नेताओं ने प्रदेश प्रभारी पीसी चाको और कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल को अपनी राय से अवगत भी करा दिया है। विरोध करने वाले नेताओं का कहना है कि नए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव दिल्ली के ही नेताओं में से होना चाहिए। दिल्ली कांग्रेस के नेताओं ने साफ कर दिया था कि उन्हें दिल्ली के बाहर के किसी भी नेता का नेतृत्व स्वीकार नहीं है। सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली के नेताओं के पुरजोर विरोध के बावजूद सोनिया गांधी ने कीर्ति आजाद पर मुहर लगाई है।