EBM News Hindi

अगस्त में औद्योगिक उत्पादन 1.1 फीसद घटा, मैन्युफैक्चिरिंग सेक्टर में आई कमी

नई दिल्ली, पीटीआइ। घरेलू अर्थव्यवस्था में सुस्ती गहराने के संकेत हैं। मैन्युफैक्चिरिंग, बिजली और खनन क्षेत्रों के खराब प्रदर्शन की वजह से अगस्त महीने में औद्योगिक उत्पादन 1.1 फीसद घट गया। शुक्रवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों से यह जानकारी सामने आई है। अगस्त, 2018 में औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (IIP) में 4.8 फ़ीसद की वृद्धि दर्ज की गई थी।

अगस्त में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का उत्पादन 1.2 फ़ीसद घट गया। अगस्त, 2018 में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के उत्पादन में 5.2 फीसद वृद्धि दर्ज की गई थी। IIP में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की हिस्सेदारी 77 फीसद है।

वहीं, बिजली क्षेत्र का उत्पादन 0.9 फीसद कम हो गया। अगस्त, 2018 में बिजली क्षेत्र के उत्पादन में 7.6 फीसद वृद्धि दर्ज की गई थी। खनन क्षेत्र के उत्पादन की वृद्धि 0.1 फीसद पर स्थिर रही। चालू वित्त वर्ष में अप्रैल से अगस्त की अवधि के दौरान औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर घटकर 2.4 फीसद रह गई है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर 5.3 फीसद रही थी।

अर्थव्यवस्था को सुस्ती से उबारने के लिए सरकार की तरफ से हाल के दिनों में ताबड़तोड़ फैसले किए गए हैं। बावजूद इसके इंडस्ट्री की रफ्तार में अब तक सुधार के संकेत नहीं हैं। त्योहारों का सीजन होने के बावजूद उद्योग, खास तौर पर वाहन और कंज्यूमर ड्यूरेबल्स सेक्टर में अब तक मांग में खास ब़़ढोतरी नहीं देखी गई है। रिजर्व बैंक ने भी हाल की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के बाद जीडीपी वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.10 फीसद कर दिया है। मांग ब़़ढाने के लिए रिजर्व बैंक मुख्य नीतिगत दर रेपो रेट में लगातार कटौती कर रहा है।